खाली पन्ने

बहोत कापियों के पन्ने भरे है तुम्हारी मोहब्बत में,

कविताएँ, कहानिया, किस्से, गाने

जाने क्या-क्या नहीं लिख डाला,

तब तो सनम तुमने कदर की

अब जब खाली ही पन्ने पढोगे तब याद आएँगे हम तुम्हें !

Leave A Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.